sad poetry in hindi on love

sad poetry in hindi | sad poetry in hindi on love | रोज़ हिज़्र मे मर रही हूँ

sad poetry in hindi

रोज़ हिज़्र मे मर रही हूँ

मैं रोज़ हिज़्र मे मर रही हूँ
दिया बनकर जल रही हूँ
आँसूओं मे बह गयी जवानी सारी
मैं रोज़ दुआ मौत की कर रही हूँ
तू जो गया, जिंदगी चली गयी
तेरी खोज मे अब भटक रही हूँ
आखरी ख़्वाहिश, देखना तुझे
राह अब तक तेरी मैं तक रही हूँ
मैं रोज़ हिज़्र मे मर रही हूँ
मैं रोज़ तेरे घर जा रही हूँ
खोलेगा एकदिन दरवाजा तू, ये
सोचकर उसे खटखटा रही हूँ
लिखकर तेरा नाम रेत पर
मैं रोज़ उसे मिटा रही हूँ
तू आयेगा लौटकर पास मेरे
सबको ये समझा रही हूँ
इश्क़ किया था, हम दोनों ने
मैं अकेली क्यूँ फिर सह रही हूँ
मैं रोज़ हिज़्र मे मर रही हूँ

sad poetry in hindi

I’m dying every day in separation
Burning like a lamp
All my life is gone in tears
I pray for death every day
You are gone, life is gone
I’m wandering in your search
Last wish to see you
I’m still looking at your path
I’m dying every day in separation
I’m going to your house every day
Knock it thinking you will open the door one day
Write your name on the sand
I’m erasing it every day
You will come back to me
Explaining it to everyone
We both loved
Why then i’m tolerating all this alone
I’m dying every day in separation

sad poetry in hindi
sad poetry in hindi on love
sad poetry in hindi
Share With :