sad poem in hindi on love

sad poetry in hindi | वो मुझसे मिलने को तड़पती होगी | sad poem in hindi on love

sad poetry in hindi

वो मुझसे मिलने को तड़पती होगी

वो मुझसे मिलने को तड़पती होगी
रोज़ थोड़ा थोड़ा मरती होगी
करती होगी चाँद से बाते मेरी
तन्हा रातो से वो लड़ती होगी
मुस्कुराकर मिलती होगी सबसे
आँसू छुप छूप कर बहाती होगी
मुझे उसकी परवाह नहीं है
सब सहेलियों से ये कहती होगी
लिखती होगी गजले मेरे लिए
मेरे ख्वाबो मे ही रहती होगी
मेरे पीछे पागल वो
ताने लोगो के सहती होगी
जो चिठियाँ लिखी मैंने उसको
बार बार दोहराती होगी
वो मुझसे मिलने को तड़पती होगी
रोज़ थोड़ा थोड़ा मरती होगी

sad poetry in hindi
sad poem in hindi on love
sad poetry in hindi
Share With :

2 comments

Comments are closed.