sad poem in hindi for love

sad poetry in hindi | क्यूं दूर जा रहे हो मुझसे | sad poem in hindi for love

sad poetry in hindi

क्यूं दूर जा रहे हो मुझसे

क्यूं दूर जा रहे हो मुझसे
हमसफर बनने का वादा किया था ना
फिर क्यूं हाथ छुड़ा रहे हो मुझसे
मेरी तो सांस भी तेरा नाम लिये बिना आती नहीं
धडकनों से मेरी, तेरी याद जाती नहीं
फिर क्यूं इन यादों को चुरा रहे हो मुझसे
क्यूं दूर जा रहे हो मुझसे
इन आँखों को तेरी आदत हो चुकी है
देख ना ले जब तक ये चेहरा तेरा
रातो को सोती नहीं है
फिर क्यूं ये आदत छुड़ा रहे हो मुझसे
खो दिया खुद को कहीं तुझको पाने मे
मिट गया वजूद मेरा तेरे पीछे आने मे
फिर क्यूं अब लौट जाने को कह रहे हो मुझसे
क्यूं दूर जा रहे हो मुझसे

sad poetry in hindi
sad poem in hindi for love
sad poetry in hindi
Share With :