sad poem in hindi for love

sad poetry in hindi | वक़्त नहीं मिलता उनको | sad poem in hindi for love

sad poetry in hindi

वक़्त नहीं मिलता उनको

वक़्त नहीं मिलता आज कल उनको
मेरे साथ वक़्त बिताने के लिए
कभी हर वक़्त था, उनका साथ
पर अब हर वक़्त बहाना ढूंढते है
हाथ छुड़ाने के लिए
वक़्त ने आज हमे कहां लाकर खडा कर दिया
आज मुझे उनकी जरूरत है
पर उनकी जरूरतों ने उनको मुझसे दूर कर दिया
ऐ वक़्त तू फिर वही लौट चल
जिसे वक़्त मैं उनके लिए सब कुछ थी
मैं ही उनकी जरूरत
मैं ही उनकी ख़्वाहिश थी
जब वक़्त नहीं गुजरता था
उनका मुझको देखे बगैर
हर वक़्त रहती थी, तड़प मुझसे मिलने की
जब कहते थे …….
तेरे साथ वक़्त का पता नहीं चलता
ओर तेरे बिना वक़्त
सदियों सा लंबा लगता
उस वक़्त तुम सिर्फ मेरे थे
मेरे लिए जीते थे, मुझ पर ही मरते थे
वक़्त ने ये कैसी करवट ली
आज वक़्त नहीं होगा उनके पास मेरे लिए
ये बात कभी सोची भी ना थी
कितना वक़्त हो चुका है
हमे साथ मे वक़्त बिताए हुए
कुछ उनकी सुने हुए, कुछ अपनी बताए हुए
मैंने चाहा था क्या
सिर्फ वक़्त ही तो उनका
वो वक़्त जिस वक़्त सिर्फ हम हो
कोई तीसरा ना हो दरमियां
वो वक़्त दूर नहीं
जब मैं भी एक गुजरा वक़्त बन जाऊँगी
ढूंढोगे मुझको हर जगहा
पर लौट कर वापीस ना आऊँगी
तब वक़्त तो होगा उनके पास
पर किसी का साथ ना होगा
तब उनको मेरे अकेलेपन का एहसास होगा
उस वक़्त तुम भी मेरी तरह तड़पोगे
पुकारोगे मुझको …..
मेरे साथ वक़्त बिताने के लिए तरसोगे
तब वक़्त ही वक़्त होगा उनके पास
पर वक़्त बिताने के लिए
तब मैं ना होगी उनके पास

Share With :