sad poetry in hindi

sad poetry in hindi on love | sad poetry in hindi | जिस इश्क़ की कैद में मैं हूं उससे रिहाई नही चाहता

sad poetry in hindi on love

जिस इश्क़ की कैद में मैं हूं उससे रिहाई नही चाहता

जिस इश्क़ की कैद में मैं हूं उससे रिहाई नही चाहता
मैं अपने यार से एक पल की भी जुदाई नही चाहता
दूर से ही खुश देखकर उसे खुश हूं मैं
करीब जाकर उसके, उसकी रुसवाई नही चाहता
चाहता था एक छोटा सा कोना दिल में उसके
मैं ऐ खुदा तुझसे तेरी कोई खुदाई नही चाहता
हुकूमत करने वाला इस दुनिया पर मैं
बनना चाहता हूं उसका गुलाम, उसपर बादशाही नही चाहता
इश्क़ में बेवफाई से डरता है दिल
इसलिए भी मैं उससे ज्यादा शनासाई नही चाहता
जिस इश्क़ की कैद में मैं हूं उससे रिहाई नही चाहता
मैं अपने यार से एक पल की भी जुदाई नही चाहता

sad poetry in hindi on love
sad poetry in hindi
sad poetry in hindi on love
sad poetry in hindi on love

Jis Ishq Kee Kaid Mein Main Hoon Usase Rihaee Nahee Chaahata
Main Apane Yaar Se Ek Pal Kee Bhee Judaee Nahee Chaahata
Door Se Hee Khush Dekhakar Use Khush Hoon Main
Kareeb Jaakar Usake, Usakee Rusavaee Nahee Chaahata
Chaahata Tha Ek Chhota Sa Kona Dil Mein Usake
Main Ai Khuda Tujhase Teree Koee Khudaee Nahee Chaahata
Hukoomat Karane Vaala Is Duniya Par Main
Banana Chaahata Hoon Usaka Gulaam, Usapar Baadashaahee Nahee Chaahata
Ishq Mein Bevaphaee Se Darata Hai Dil
Isalie Bhee Main Usase Jyaada Shanaasaee Nahee Chaahata
Jis Ishq Kee Kaid Mein Main Hoon Usase Rihaee Nahee Chaahata
Main Apane Yaar Se Ek Pal Kee Bhee Judaee Nahee Chaahata

Share With :