sad poetry in hindi

sad poetry in hindi on love | sad poetry in hindi | मुझे एक खुशबू से मोहब्बत हो गई

sad poetry in hindi on love

मुझे एक खुशबू से मोहब्बत हो गई

मुझे एक खुशबू से मोहब्बत हो गई
मेरी छोड़ वो तो सबकी हो गई
हर कोई महकाना चाहता है अपना बदन उससे
जब से मेरे मोहल्ले के बगीचे की वो रोनक हो गई
मैं चाहता था मैं गुल बनू और वो निकले मुझसे
पर वो तो पहले से ही हर फूल की किस्मत हो गई
कब और कौन कैद कर पाया है उसको
हवाओं के साथ बहने वाली वो कभी मेरी तो कभी
उसकी हो गई
खुद को बांट कर दूसरो को खुशी देना सीखा है उसने
उसकी ये ही आदत उसकी इबादत हो गई
गुजरता हूं जब भी उस बगीचे के करीब से
लिपटती है ऐसे जैसे मुझ पर खुदा की इनायत हो गई
मुझे एक खुशबू से मोहब्बत हो गई
मेरी छोड़ वो तो सबकी हो गई

sad poetry in hindi on love
sad poetry in hindi
sad poetry in hindi on love
sad poetry in hindi on love

Mujhe Ek Khushaboo Se Mohabbat Ho Gaee
Meree Chhod Vo To Sabakee Ho Gaee
Har Koee Mahakaana Chaahata Hai Apana Badan Usase
Jab Se Mere Mohalle Ke Bageeche Kee Vo Ronak Ho Gaee
Main Chaahata Tha Main Gul Banoo Aur Vo Nikale Mujhase
Par Vo To Pahale Se Hee Har Phool Kee Kismat Ho Gaee
Kab Aur Kaun Kaid Kar Paaya Hai Usako
Havaon Ke Saath Bahane Vaalee Vo Kabhee Meree To Kabhee
Usakee Ho Gaee
Khud Ko Baant Kar Doosaro Ko Khushee Dena Seekha Hai Usane
Usakee Ye Hee Aadat Usakee Ibaadat Ho Gaee
Gujarata Hoon Jab Bhee Us Bageeche Ke Kareeb Se
Lipatatee Hai Aise Jaise Mujh Par Khuda Kee Inaayat Ho Gaee
Mujhe Ek Khushaboo Se Mohabbat Ho Gaee
Meree Chhod Vo To Sabakee Ho Gaee

Share With :