sad poetry in hindi on love

sad poetry in hindi on love | sad poetry in hindi | कौन था जो मेरी मोहब्बत के लिए बेकरार था

sad poetry in hindi on love

कौन था जो मेरी मोहब्बत के लिए बेकरार था

कौन था जो मेरी मोहब्बत के लिए बेकरार था
कौन था जो इश्क़ में बिखरने के लिए तय्यार था

कौन था जो हुआ कत्ल अपने महबूब के हाथों
कौन था जिसे इसका जरा सा भी ना मलाल था

कौन था जो दे रहा था आवाजे मुझको अंधेरों से
कौन था जिसे सुबह का बेसब्री से इंतजार था

कौन था जिसकी प्यास सिर्फ और सिर्फ मैं थी
कौन था जीना जिसका मेरे बिना मुहाल था

कौन था जिसने शबनम बनकर भीगा दिया मुझे
कौन था जो खुशबू की तरह हर तरफ बहाल था

कौन था जिसने अपना दिल,जिगर,जान सौप दी मुझे
कौन था जो पहली ही मुलाकात से मुझ पर निसार था

sad poetry in hindi on love
sad poetry in hindi
sad poetry in hindi on love
Share With :