sad poetry in hindi

sad poetry in hindi on love | sad poetry in hindi | तेरी खुशबू मेरे बदन से आज भी आती है

sad poetry in hindi on love

तेरी खुशबू मेरे बदन से आज भी आती है

तेरी खुशबू मेरे बदन से आज भी आती है
तेरे बारे में सोचते ही मेरी आंखे भीग जाती है
कर जाते है बैचेन तेरे साथ बिताए हुए लम्हे
तेरी बाते, तेरी मुलाकाते मुझे दिन रात रुलाती है

फिर जल उठती है सिगार, भर जाता है जाम
फिर एक और शाम तेरी यादों में यूहीं ढल जाती है
निकलता है फिर लहू कलम से मेरी
और एक उदास गजल कोरे पन्नो पर उतर आती है

संभल कर गुजरता हूं उन गलियों से आज भी मैं
जो मेरे घर से होकर तेरे घर को जाती है
यही हुई थी जवां हमारी मोहब्बत यही दम तोड़ा था उसने
यही पर वो मुझे तड़पती हुई आज भी नज़र आती है

कर जाते है बैचेन तेरे साथ बिताए हुए लम्हे
तेरी बाते, तेरी मुलाकाते मुझे दिन रात रुलाती है

sad poetry in hindi on love
sad poetry in hindi
sad poetry in hindi on love
Share With :