sad poetry in hindi

sad poetry in hindi on love | sad poetry in hindi | इश्क़ का जलवा तुझे तब नजर आएगा

sad poetry in hindi on love

इश्क़ का जलवा तुझे तब नजर आएगा

इश्क़ का जलवा तुझे तब नजर आएगा
जब तू सिर से पांव तक इश्क़ में डूब जाएगा
सब कुछ खत्म हो जाएगा जब इस दुनिया में
तब इश्क़ ही इश्क़ बस इश्क़ बचा रह जाएगा

महबूब की आँखों से जब तू जाम बनाएगा
नशा उसका फिर कोई उतार ना पाएगा
खर्च करेगा अपनी जिंदगी फिर उसकी खुशियों पर
फिर उसकी लंबी दुआ के लिए हर वक्त हाथ फैलाएगा

बन जाएगा फिर तू एक अच्छा शायर भी
फिर तू महफिलों में उस पर लिखी गज़ले पढ़कर सुनाएगा
गली उसकी हो जाएगी मक्का और काबा तेरे लिए
महबूब में तुझे एक खुदा नजर आएगा

इश्क़ का जलवा तुझे तब नजर आएगा
जब तू सिर से पांव तक इश्क़ में डूब जाएगा

sad poetry in hindi on love
sad poetry in hindi
sad poetry in hindi on love
Share With :