sad poetry in hindi

sad poetry in hindi on love | sad poetry in hindi | पलकों पर बैठा एक ख़्वाब सुहाना मिला

sad poetry in hindi on love

पलकों पर बैठा एक ख़्वाब सुहाना मिला

पलकों पर बैठा एक ख़्वाब सुहाना मिला
जीने का फिर से एक बहाना मिला
जिसे खो चुकी थी इस दुनिया की भीड़ में
आज फिर से वो दोस्त पुराना मिला

मेरी आवारा बेपरवाह ख्वाहिशों को
उसकी आँखों में एक ठिकाना मिला
मिला है वो मुझे आज ऐसे, जैसे
किसी बेघर परिंदे को कोई आशियाना मिला

देखकर उसके मुस्कुराते चेहरे को
प्यार करने का हौसला दोबारा मिला
रेत की तरह फिसलती मेरी जिंदगी को
उसके हाथों का फिर से सहारा मिला

जिसे खो चुकी थी इस दुनिया की भीड़ में
आज फिर से वो दोस्त पुराना मिला

sad poetry in hindi on love
sad poetry in hindi
sad poetry in hindi on love
Share With :