sad poetry in hindi

sad poetry in hindi on love | sad poetry in hindi | किस बात पर है मुझसे नाराज़ तू

sad poetry in hindi on love

किस बात पर है मुझसे नाराज़ तू

किस बात पर है मुझसे नाराज़ तू
रहता है इन दिनों बड़ा उदास तू
जिसे पूरा करने में लगा दी मैंने जिंदगी
मेरा इकलौता वो ख़्वाब तू

जिसके सामने एक खुली किताब हूं मैं
मेरा है वो हमराज तू
छुपाकर रखा जिसे हमेशा दुनिया से
मेरे दिल में दफ़न वो राज़ तू

पाती हूं सुकून जिसके तले आकर मैं
मेरे लिए वो मकान तू
जो निकलकर सीधी खुदा तक जाएगी
मेरे दिल की वो आवाज़ तू

किस बात पर है मुझसे नाराज़ तू
रहता है इन दिनों बड़ा उदास तू

sad poetry in hindi on love
sad poetry in hindi
sad poetry in hindi on love
Share With :