sad poetry in hindi

sad poetry in hindi on love | sad poetry in hindi | तेरी आँखों में इक कशिश है मेरे दोस्त

sad poetry in hindi on love

तेरी आँखों में इक कशिश है मेरे दोस्त

तेरी आँखों में इक कशिश है मेरे दोस्त
तेरे बदन में इक तपिश है मेरे दोस्त
फसता जा रहा हूं तेरे हुस्न के जाल में
इन दिनों मेरी जान गर्दिश मे है मेरे दोस्त

मैं तो मुरीद हूं तेरी प्यारी बातों का
तेरे दिल में क्यूं रंजिश है मेरे दोस्त
मेरे कासा ए दिल में डाली हुई तू इक
खुदा की अनमोल बख़्शिश है मेरे दोस्त

तू है बहती हुई आजाद, चंचल नदी
तुझ पर किसकी बंदिश है मेरे दोस्त
आकर लगा ले गले समंदर को
तुझ बिन उसमे इक ख़लिश है मेरे दोस्त

तेरी आँखों में इक कशिश है मेरे दोस्त
तेरे बदन में इक तपिश है मेरे दोस्त

sad poetry in hindi on love
sad poetry in hindi
sad poetry in hindi on love
Share With :