sad poetry in hindi

sad poetry in hindi on love | sad poetry in hindi | राहों में उसके एक चिराग रख दिया

sad poetry in hindi on love

राहों में उसके एक चिराग रख दिया

नजर में अपनी उसका दीदार रख दिया
राहों में उसके एक चिराग रख दिया
जब वो गा रहा था गीत जुदाई का महफिल में
तो तारों ने उसके पैरों में महताब रख दिया

जब देखा उसको सामने से आता हुआ तो
मैने नीचे शराब का गिलास रख दिया
बालों में अपने लगाकर आया था जो वो
उसने मेरी किताब में, वो गुलाब रख दिया

छोड़ दिया था उसका हाथ बीच सफर में मैने
और उसने मेरे नाम पर बच्चे का नाम रख दिया
आज जब बरसों बाद मुलाकात हुई उससे
फिर से मेरे आगे अपना प्यार बेशुमार रख दिया

जब वो गा रहा था गीत जुदाई का महफिल में
तो तारों ने उसके पैरों में महताब रख दिया

sad poetry in hindi on love
sad poetry in hindi
sad poetry in hindi on love
sad poetry in hindi on love

Najar Mein Apanee Usaka Deedaar Rakh Diya
Raahon Mein Usake Ek Chiraag Rakh Diya
Jab Vo Ga Raha Tha Geet Judaee Ka Mahaphil Mein
To Taaron Ne Usake Pairon Mein Mahataab Rakh Diya

Jab Dekha Usako Saamane Se Aata Hua To
Maine Neeche Sharaab Ka Gilaas Rakh Diya
Baalon Mein Apane Lagaakar Aaya Tha Jo Vo
Usane Meree Kitaab Mein, Vo Gulaab Rakh Diya

Chhod Diya Tha Usaka Haath Beech Saphar Mein Maine
Aur Usane Mere Naam Par Bachche Ka Naam Rakh Diya
Aaj Jab Barason Baad Mulaakaat Huee Usase
Phir Se Mere Aage Apana Pyaar Beshumaar Rakh Diya

Jab Vo Ga Raha Tha Geet Judaee Ka Mahaphil Mein
To Taaron Ne Usake Pairon Mein Mahataab Rakh Diya

Share With :