sad poetry in hindi

sad poetry in hindi on love | sad poetry in hindi | तू क्यूँ बेवफा हो गया मेरी जान

sad poetry in hindi on love

तू क्यूँ बेवफा हो गया मेरी जान

तू क्यूँ बेवफा हो गया मेरी जान
मुझसे खफा हो गया मेरी जान
दे रहा है किसे सुकून अब तू
तू किसकी दवा हो गया मेरी जान

हाथ लगाने पर कुछ महसूस नहीं होता
जैसे तू हवा हो गया मेरी जान
किस मौसम की बहार का असर है तुझ पर
तू पहले से ज्यादा हरा हो गया मेरी जान

यहां एक नही मिलता तुझे दो मिले है
एक मैं और एक रकीब तेरा तो नफा हो गया मेरी जान
मैने नगमा क्या गाया तेरे लिए रकीब उठ के चला गया
तेरे साथ तो दगा हो गया मेरी जान

तू क्यूँ बेवफा हो गया मेरी जान
मुझसे खफा हो गया मेरी जान

sad poetry in hindi on love
sad poetry in hindi
sad poetry in hindi on love
sad poetry in hindi on love

Too Kyoon Bevapha Ho Gaya Meree Jaan
Mujhase Khapha Ho Gaya Meree Jaan
De Raha Hai Kise Sukoon Ab Too
Too Kisakee Dava Ho Gaya Meree Jaan

Haath Lagaane Par Kuchh Mahasoos Nahin Hota
Jaise Too Hava Ho Gaya Meree Jaan
Kis Mausam Kee Bahaar Ka Asar Hai Tujh Par
Too Pahale Se Jyaada Hara Ho Gaya Meree Jaan

Yahaan Ek Nahee Milata Tujhe Do Mile Hai
Ek Main Aur Ek Rakeeb Tera To Napha Ho Gaya Meree Jaan
Maine Nagama Kya Gaaya Tere Lie Rakeeb Uth Ke Chala Gaya
Tere Saath To Daga Ho Gaya Meree Jaan

Too Kyoon Bevapha Ho Gaya Meree Jaan
Mujhase Khapha Ho Gaya Meree Jaan

Share With :