sad poetry in hindi

sad poetry in hindi on love | sad poetry in hindi | मुझे उसका हुस्न ऐसा लगा

sad poetry in hindi on love

मुझे उसका हुस्न ऐसा लगा

मुझे उसका हुस्न ऐसा लगा
गुलाब पर गिरी ओस की बूंद के जैसा लगा
सागर में उठी हो कोई लहर मस्ती की
वो अँगड़ाई लेता हुआ हुबहू वैसा लगा

ये तेरी ही इनायत है दुनिया बनाने वाले
आशिकों को महबूब भी इश्क़ में खुदा के जैसा लगा
मुझे उसके दर से मिलती है राहत
उसका दर मुझे तेरे दर के जैसा लगा

जैसे लग जाती है किसी को लत नशे की
वो भी मुझे बिल्कुल ऐसे लगा
उसकी आंखे किसी शराब से कम नहीं है
वो अपने आप में एक मयखाने जैसा लगा

सागर में उठी हो कोई लहर मस्ती की
वो अँगड़ाई लेता हुआ हुबहू मुझे वैसा लगा

sad poetry in hindi on love
sad poetry in hindi
sad poetry in hindi on love
sad poetry in hindi on love

Mujhe Usaka Husn Aisa Laga
Gulaab Par Giree Os Kee Boond Ke Jaisa Laga
Saagar Mein Uthee Ho Koee Lahar Mastee Kee
Vo Angadaee Leta Hua Hubahoo Vaisa Laga

Ye Teree Hee Inaayat Hai Duniya Banaane Vaale
Aashikon Ko Mahaboob Bhee Ishq Mein Khuda Ke Jaisa Laga
Mujhe Usake Dar Se Milatee Hai Raahat
Usaka Dar Mujhe Tere Dar Ke Jaisa Laga

Jaise Lag Jaatee Hai Kisee Ko Lat Nashe Kee
Vo Bhee Mujhe Bilkul Aise Laga
Usakee Aankhe Kisee Sharaab Se Kam Nahin Hai
Vo Apane Aap Mein Ek Mayakhaane Jaisa Laga

Saagar Mein Uthee Ho Koee Lahar Mastee Kee
Vo Angadaee Leta Hua Hubahoo Mujhe Vaisa Laga

Share With :