sad poetry in hindi

sad poetry in hindi on love | sad poetry in hindi | वो बैठकर छत पर जाने किसको देखती रहती है

sad poetry in hindi on love

वो बैठकर छत पर जाने किसको देखती रहती है

वो बैठकर छत पर जाने किसको देखती रहती है
किसका है इंतज़ार उसको, किसके नाम की माला फेरती रहती है
जब भी आती है नदी किनारे पानी भरने वो
ना जाने किसको मल्लाह के हाथों संदेश भेजती रहती है

खोई खोई सी रहती है आज कल वो
हर वक्त कुछ ना कुछ लिखती रहती है
उसको है शायद किसी के आने की उम्मीद
इसलिए वो स्टेशन पर अक्सर मिलती रहती है

जो रहती ना थी सहेलियों के बिना आज अकेले रहती है
अंदर ही अंदर याद में किसकी जलती रहती है
ना वो हसती है ना वो रोती है
जाने किसके लिए अंदर ही अंदर मरती रहती है

वो बैठकर छत पर जाने किसको देखती रहती है
किसका है इंतज़ार उसको, किसके नाम की माला फेरती रहती है

sad poetry in hindi on love
sad poetry in hindi
sad poetry in hindi on love
sad poetry in hindi on love

Vo Baithakar Chhat Par Jaane Kisako Dekhatee Rahatee Hai
Kisaka Hai Intazaar Usako, Kisake Naam Kee Maala Pheratee Rahatee Hai
Jab Bhee Aatee Hai Nadee Kinaare Paanee Bharane Vo
Na Jaane Kisako Mallaah Ke Haathon Sandesh Bhejatee Rahatee Hai

Khoee Khoee See Rahatee Hai Aaj Kal Vo
Har Vakt Kuchh Na Kuchh Likhatee Rahatee Hai
Usako Hai Shaayad Kisee Ke Aane Kee Ummeed
Isalie Vo Steshan Par Aksar Milatee Rahatee Hai

Jo Rahatee Na Thee Saheliyon Ke Bina Aaj Akele Rahatee Hai
Andar Hee Andar Yaad Mein Kisakee Jalatee Rahatee Hai
Na Vo Hasatee Hai Na Vo Rotee Hai
Jaane Kisake Lie Andar Hee Andar Maratee Rahatee Hai

Vo Baithakar Chhat Par Jaane Kisako Dekhatee Rahatee Hai
Kisaka Hai Intazaar Usako, Kisake Naam Kee Maala Pheratee Rahatee Hai

Share With :