sad poetry in hindi

sad poetry in hindi on love | sad poetry in hindi | तेरी बात को सच मान कर

sad poetry in hindi on love

तेरी बात को सच मान कर

तेरी बात को सच मान कर
मैं निकल पड़ी घर से सामान बांध कर
करती रही तेरा इंतजार जहां तूने बुलाया था
चली गई आखरी बस भी वहा से मुसाफिर उतार कर

आंखे बंद करके तेरे पीछे चलती रही
तुझको अपना खुदा जान कर
लोगो ने बड़ा समझाया, उसने तुझ से पहले भी कइयों को ऐसा है फसाया
पर मैने एक ना सुनी, अब रो रही हूं अपना सब कुछ हार कर

यूं अकेला छोड़कर जाने से अच्छा होता
तू चला जाता मुझे जान से मार कर
इतना किया है तो एक कर्म और कर मुझ पर
जो धड़क रहा है तेरे लिए उस दिल पर आखरी वार कर

करती रही तेरा इंतजार जहां तूने बुलाया था
चली गई आखरी बस भी वहा से मुसाफिर उतार कर

sad poetry in hindi on love
sad poetry in hindi
sad poetry in hindi on love
sad poetry in hindi on love

Teree Baat Ko Sach Maan Kar
Main Nikal Padee Ghar Se Saamaan Baandh Kar
Karatee Rahee Tera Intajaar Jahaan Toone Bulaaya Tha
Chalee Gaee Aakharee Bas Bhee Vaha Se Musaaphir Utaar Kar

Aankhe Band Karake Tere Peechhe Chalatee Rahee
Tujhako Apana Khuda Jaan Kar
Logo Ne Bada Samajhaaya, Usane Tujh Se Pahale Bhee Kaiyon Ko Aisa Hai Phasaaya
Par Maine Ek Na Sunee, Ab Ro Rahee Hoon Apana Sab Kuchh Haar Kar

Yoon Akela Chhodakar Jaane Se Achchha Hota
Too Chala Jaata Mujhe Jaan Se Maar Kar
Itana Kiya Hai To Ek Karm Aur Kar Mujh Par
Jo Dhadak Raha Hai Tere Lie Us Dil Par Aakharee Vaar Kar

Karatee Rahee Tera Intajaar Jahaan Toone Bulaaya Tha
Chalee Gaee Aakharee Bas Bhee Vaha Se Musaaphir Utaar Kar

Share With :