sad poetry in hindi

sad poetry in hindi on love | sad poetry in hindi | झोंका हवा का खिड़की से आ गया

sad poetry in hindi on love

झोंका हवा का खिड़की से आ गया

झोंका हवा का खिड़की से आ गया
तेरे लिखे सब खातों को उड़ा गया
खोई हुई थी मैं तेरे ख्यालो में
और वो मुझको नीद से जगा गया

सिमटे हुए थे जो बाल मेरे
वो उन बालों को भी उलझा गया
जाते जाते ये झोंका हवा का
दीवार पर तेरा नक्श बना गया

ताजा हुई तेरी यादें सारी
तेरी यादों का जैसे बादल छा गया
नहाई आज मैं जी भरकर उसमें
जिसने रोक रखा था मुझे वो दीवार ढा गया

खोई हुई थी मैं तेरे ख्यालो में
और वो मुझको नीद से जगा गया

sad poetry in hindi on love
sad poetry in hindi
sad poetry in hindi on love
sad poetry in hindi on love

Jhonka Hava Ka Khidakee Se Aa Gaya
Tere Likhe Sab Khaaton Ko Uda Gaya
Khoee Huee Thee Main Tere Khyaalo Mein
Aur Vo Mujhako Need Se Jaga Gaya

Simate Hue The Jo Baal Mere
Vo Un Baalon Ko Bhee Ulajha Gaya
Jaate Jaate Ye Jhonka Hava Ka
Deevaar Par Tera Naksh Bana Gaya

Taaja Huee Teree Yaaden Saaree
Teree Yaadon Ka Jaise Baadal Chha Gaya
Nahaee Aaj Main Jee Bharakar Usamen
Jisane Rok Rakha Tha Mujhe Vo Deevaar Dha Gaya

Khoee Huee Thee Main Tere Khyaalo Mein
Aur Vo Mujhako Need Se Jaga Gaya

Share With :