sad poetry in hindi

sad poetry in hindi on love | sad poetry in hindi | जिंदगी ने ये कैसा मोड़ ले लिया है

sad poetry in hindi on love

जिंदगी ने ये कैसा मोड़ ले लिया है

जिंदगी ने ये कैसा मोड़ ले लिया है
जिसे देखते थे छुप छुपकर कभी
आज उसी से खुद को छुपाना पड़ रहा है
जो हुआ करता था कभी अपना
आज उसे अजनबी बताना पड़ रहा है
मेरे दिल के खालीपन को उसने भरा था कभी
मेरी शायरियों का वो हिस्सा रहा था कभी
पढ़ी थी कभी उसके लिए नज्में मैने
लिखी थी कभी उसके लिए गज़ले मैने
वो मेरे पास ना होकर भी मुझमें आज भी है कहीं
वो कहीं और नहीं मेरे दिल में है यहीं
वो मेरे लिए इश्क़ का समंदर था, जिसमे मैं डूबी थी
नदी बनकर जिससे मैं जा मिली थी
हाँ, आज वो अपनी जिंदगी में आगे बढ़ चुका है
और वो मैं नहीं कोई और है, जिसका हाथ उसने थाम रखा है
जो हुआ करता था कभी अपना
आज उसे अजनबी बताना पड़ रहा है

sad poetry in hindi on love
sad poetry in hindi
sad poetry in hindi on love
sad poetry in hindi on love

Jindagee Ne Ye Kaisa Mod Le Liya Hai
Jise Dekhate The Chhup Chhupakar Kabhee
Aaj Usee Se Khud Ko Chhupaana Pad Raha Hai
Jo Hua Karata Tha Kabhee Apana
Aaj Use Ajanabee Bataana Pad Raha Hai
Mere Dil Ke Khaaleepan Ko Usane Bhara Tha Kabhee
Meree Shaayariyon Ka Vo Hissa Raha Tha Kabhee
Padhee Thee Kabhee Usake Lie Najmen Maine
Likhee Thee Kabhee Usake Lie Gazale Maine
Vo Mere Paas Na Hokar Bhee Mujhamen Aaj Bhee Hai Kaheen
Vo Kaheen Aur Nahin Mere Dil Mein Hai Yaheen
Vo Mere Lie Ishq Ka Samandar Tha, Jisame Main Doobee Thee
Nadee Banakar Jisase Main Ja Milee Thee
Haan, Aaj Vo Apanee Jindagee Mein Aage Badh Chuka Hai
Aur Vo Main Nahin Koee Aur Hai, Jisaka Haath Usane Thaam Rakha Hai
Jo Hua Karata Tha Kabhee Apana
Aaj Use Ajanabee Bataana Pad Raha Hai

Share With :