sad poetry in hindi

sad poetry in hindi on love | sad poetry in hindi | तू दे जितना दर्द देना चाहता है हिज़्र में मुझे

sad poetry in hindi on love

तू दे जितना दर्द देना चाहता है हिज़्र में मुझे

अगर तेरे जाने के बाद भी सांस बाकी है
इसका मतलब तेरे आने की आस बाकी है
तू दे जितना दर्द देना चाहता है हिज़्र में मुझे
मेरे महबूब मेरे अंदर अभी जान बाकी है
तारों से कहो अभी ना छुपे आसमान में
दिखाए मुझे रास्ता अभी रात बाकी है
मेरे महबूब का घर बस कुछ ही दूरी पर है
सूरज अभी ना निकलना मुलाकात बाकी है
जल्दी क्या है जाने की, कुछ देर और बैठो मेरे पास
जो रह गई थी कल वो बात बाकी है
उससे कहो अभी ना गिराये घूंघट चेहरे पर
पीने दो मुझे आंखों से मेरी प्यास बाकी है
तू दे जितना दर्द देना चाहता है हिज़्र में मुझे
मेरे महबूब मेरे अंदर अभी जान बाकी है

sad poetry in hindi on love
sad poetry in hindi
sad poetry in hindi on love
sad poetry in hindi on love

Agar Tere Jaane Ke Baad Bhee Saans Baakee Hai
Isaka Matalab Tere Aane Kee Aas Baakee Hai
Too De Jitana Dard Dena Chaahata Hai Hizr Mein Mujhe
Mere Mahaboob Mere Andar Abhee Jaan Baakee Hai
Taaron Se Kaho Abhee Na Chhupe Aasamaan Mein
Dikhae Mujhe Raasta Abhee Raat Baakee Hai
Mere Mahaboob Ka Ghar Bas Kuchh Hee Dooree Par Hai
Sooraj Abhee Na Nikalana Mulaakaat Baakee Hai
Jaldee Kya Hai Jaane Kee, Kuchh Der Aur Baitho Mere Paas
Jo Rah Gaee Thee Kal Vo Baat Baakee Hai
Usase Kaho Abhee Na Giraaye Ghoonghat Chehare Par
Peene Do Mujhe Aankhon Se Meree Pyaas Baakee Hai
Too De Jitana Dard Dena Chaahata Hai Hizr Mein Mujhe
Mere Mahaboob Mere Andar Abhee Jaan Baakee Hai

Share With :