sad poetry in hindi

sad poetry in hindi on love | sad poetry in hindi | मुझे तो हर बार नया ये सफ़र लगता है

sad poetry in hindi on love

मुझे तो हर बार नया ये सफ़र लगता है

मुझे तो हर बार नया ये सफ़र लगता है
संगमरमर का तेरा बदन लगता है
हर दीवार हर रास्ता है एक जैसा
खो ना जाऊं मैं कहीं ये डर लगता है
सजी रहती है महफ़िल हर वक्त तेरे चारो तरफ
मुझे तो हर नये नये लिखने वाले का ये दर लगता है
पहुंच गया हो जैसे कोई मंदिर, मस्जिद,मक्का, मदीना
ऐसा तेरा मुझको घर लगता है
हर कोई पढ़ता है नज्में, हर कोई लिखता है गज़ले,हर कोई करता है शायरी
ये तो तेरे सताये हुए आशिकों का नगर लगता है
दरबान दे रास्ता मुझको बाहर जाने का
कुछ देर और रुका तो आ जाऊंगा उसके हुस्न की चपेट में मुझे ये डर लगता है
मुझे तो हर बार नया ये सफ़र लगता है
संगमरमर का तेरा बदन लगता है

sad poetry in hindi on love
sad poetry in hindi
sad poetry in hindi on love
sad poetry in hindi on love

Mujhe To Har Baar Naya Ye Safar Lagata Hai
Sangamaramar Ka Tera Badan Lagata Hai
Har Deevaar Har Raasta Hai Ek Jaisa
Kho Na Jaoon Main Kaheen Ye Dar Lagata Hai
Sajee Rahatee Hai Mahafil Har Vakt Tere Chaaro Taraph
Mujhe To Har Naye Naye Likhane Vaale Ka Ye Dar Lagata Hai
Pahunch Gaya Ho Jaise Koee Mandir, Masjid,Makka, Madeena
Aisa Tera Mujhako Ghar Lagata Hai
Har Koee Padhata Hai Najmen, Har Koee Likhata Hai Gazale,Har Koee Karata Hai Shaayaree
Ye To Tere Sataaye Hue Aashikon Ka Nagar Lagata Hai
Darabaan De Raasta Mujhako Baahar Jaane Ka
Kuchh Der Aur Ruka To Aa Jaoonga Usake Husn Kee Chapet Mein Mujhe Ye Dar Lagata Hai
Mujhe To Har Baar Naya Ye Safar Lagata Hai
Sangamaramar Ka Tera Badan Lagata Hai

Share With :