sad poetry in hindi

sad poetry in hindi on love | sad poetry in hindi | मेरी जब से तुझसे जुदाई हुई

sad poetry in hindi on love

मेरी जब से तुझसे जुदाई हुई

मेरी जब से तुझसे जुदाई हुई
दुनियाभर से मैं तब से पराई हुई
रखा ना रिश्ता फिर खुशी से मैंने
मेरे दुख में शामिल मेरी तन्हाई हुई
वो क्या प्यार देगी किसी को दोस्तों
जो खुद प्यार में हो सताई हुई
जो हो रहा है प्यार में मेरे साथ
लगता है ये कहानी पहले भी है दोहराई हुई
हमेशा रखती हूं जिस किताब को लगा के सीने से
उसमे उसकी तस्वीर है छुपाई हुई
आज भी उसकी यादों की बस्ती
रखी है मैने अपने दिल मे बसाई हुई
मेरी जब से तुझसे जुदाई हुई
दुनियाभर से मैं तब से पराई हुई

sad poetry in hindi on love
sad poetry in hindi
sad poetry in hindi on love
sad poetry in hindi on love

Meree Jab Se Tujhase Judaee Huee
Duniyaabhar Se Main Tab Se Paraee Huee
Rakha Na Rishta Phir Khushee Se Mainne
Mere Dukh Mein Shaamil Meree Tanhaee Huee
Vo Kya Pyaar Degee Kisee Ko Doston
Jo Khud Pyaar Mein Ho Sataee Huee
Jo Ho Raha Hai Pyaar Mein Mere Saath
Lagata Hai Ye Kahaanee Pahale Bhee Hai Doharaee Huee
Hamesha Rakhatee Hoon Jis Kitaab Ko Laga Ke Seene Se
Usame Usakee Tasveer Hai Chhupaee Huee
Aaj Bhee Usakee Yaadon Kee Bastee
Rakhee Hai Maine Apane Dil Me Basaee Huee
Meree Jab Se Tujhase Judaee Huee
Duniyaabhar Se Main Tab Se Paraee Huee

Share With :