sad poetry in hindi

sad poetry in hindi on love | sad poetry in hindi | जब वो मेरे लिए प्यार अपने दिल में भरकर आया

sad poetry in hindi on love

जब वो मेरे लिए प्यार अपने दिल में भरकर आया

जब वो मेरे लिए प्यार अपने दिल में भरकर आया
तब खुशी से मेरी आंखों से अश्क छलक आया
फूट पड़े खुशबू के चश्में मेरे पूरे जिस्म से
प्यार करने पर जब मेरा मेहबूब उतर आया
आया था वो मेरी किस्मत अपने हाथ में लेकर
जब वो मेरा दिया लिबाज़ पहनकर सामने आया
क्या खूब नज़ारा था मानो जगमगा उठे जुगनू चारो तरफ
जैसे कोई चांद अर्श से जमीन पर उतर आया
उसकी झुल्फों में उलझकर रह गया, उसकी आंखों में डूब गया
जो फिसला उसकी कमर से फिर संभल ना पाया
उसके हुस्न मे एक अजीब सी कशिश थी
रहा होश ना फिर दुनिया का, ऐसा नशा उतर आया
फूट पड़े खुशबू के चश्में मेरे पूरे जिस्म से
प्यार करने पर जब मेरा मेहबूब उतर आया

sad poetry in hindi on love
sad poetry in hindi
sad poetry in hindi on love
sad poetry in hindi on love

Jab Vo Mere Lie Pyaar Apane Dil Mein Bharakar Aaya
Tab Khushee Se Meree Aankhon Se Ashk Chhalak Aaya
Phoot Pade Khushaboo Ke Chashmen Mere Poore Jism Se
Pyaar Karane Par Jab Mera Mehaboob Utar Aaya
Aaya Tha Vo Meree Kismat Apane Haath Mein Lekar
Jab Vo Mera Diya Libaaz Pahanakar Saamane Aaya
Kya Khoob Nazaara Tha Maano Jagamaga Uthe Juganoo Chaaro Taraph
Jaise Koee Chaand Arsh Se Jameen Par Utar Aaya
Usakee Jhulphon Mein Ulajhakar Rah Gaya, Usakee Aankhon Mein Doob Gaya
Jo Phisala Usakee Kamar Se Phir Sambhal Na Paaya
Usake Husn Me Ek Ajeeb See Kashish Thee
Raha Hosh Na Phir Duniya Ka, Aisa Nasha Utar Aaya
Phoot Pade Khushaboo Ke Chashmen Mere Poore Jism Se
Pyaar Karane Par Jab Mera Mehaboob Utar Aaya

Share With :