sad poetry in hindi

sad poetry in hindi on love | sad poetry in hindi | हम है उझड़े हुए बागों के माली

sad poetry in hindi on love

हम है उझड़े हुए बागों के माली

हम एक आस मे मर जाते है
समंदर में साहिल की तलाश मे मर जाते है
हम है उझड़े हुए बागों के माली
जो ताउम्र बहार के इंतजार मे मर जाते है
जिनसे बिछड़ जाते है उनके महबूब
वो एक ही जिन्दगी में कई बार मर जाते है
करते है तलाश सहरा में पानी की
फिर आखिरकार उसकी प्यास में मर जाते है
बंद करो जंगलों को यूं अंधाधुंध काटना
तुम्हारे इस लालच मे कई बेजुबान मर जाते है
इंसान मर जाता है हवा के बगैर
और परिंदे पेड़ों के बगैर मर जाते है
हम है उझड़े हुए बागों के माली
जो ताउम्र बहार के इंतजार मे मर जाते है

sad poetry in hindi on love
sad poetry in hindi
sad poetry in hindi on love
sad poetry in hindi on love

Ham Ek Aas Me Mar Jaate Hai
Samandar Mein Saahil Kee Talaash Me Mar Jaate Hai
Ham Hai Ujhade Hue Baagon Ke Maalee
Jo Taumr Bahaar Ke Intajaar Me Mar Jaate Hai
Jinase Bichhad Jaate Hai Unake Mahaboob
Vo Ek Hee Jindagee Mein Kaee Baar Mar Jaate Hai
Karate Hai Talaash Sahara Mein Paanee Kee
Phir Aakhirakaar Usakee Pyaas Mein Mar Jaate Hai
Band Karo Jangalon Ko Yoon Andhaadhundh Kaatana
Tumhaare Is Laalach Me Kaee Bejubaan Mar Jaate Hai
Insaan Mar Jaata Hai Hava Ke Bagair
Aur Parinde Pedon Ke Bagair Mar Jaate Hai
Ham Hai Ujhade Hue Baagon Ke Maalee
Jo Taumr Bahaar Ke Intajaar Me Mar Jaate Hai

Share With :