sad poetry in hindi

sad poetry in hindi on love | sad poetry in hindi | दिन रात रोते है और तुझे बुलाते है हम

sad poetry in hindi on love

दिन रात रोते है और तुझे बुलाते है हम

दिन रात रोते है और तुझे बुलाते है हम
जरा आकर देख तुझे कितना चाहते है हम
कोई देखकर मेरे ज़ख्मों को तुझे इल्जाम ना दे
इसलिए उनको सबकी नजरों से छुपाते है हम
दुनियादारी निभाने के लिए पड़ता है हंसना
आँसू अंदर ही अंदर आजकल पी जाते है हम
बहुत कड़ी धूप है हिज़्र के रास्ते पर जानां
जो भी आशिक़ गुजरता है वहा से पेड़ बन जाते है हम
तेरी खुशी के लिए तुझको ही छोड़ दिया
ये दुख क्या कम है जो रोज उठाते है हम
हमने तो मोहब्बत के सिवा कुछ सीखा नही यहा
लोग बड़े चालाक है और बेवकूफ बन जाते है हम
दिन रात रोते है और तुझे बुलाते है हम
जरा आकर देख तुझे कितना चाहते है हम

sad poetry in hindi on love
sad poetry in hindi
sad poetry in hindi on love
sad poetry in hindi on love

Din Raat Rote Hai Aur Tujhe Bulaate Hai Ham
Jara Aakar Dekh Tujhe Kitana Chaahate Hai Ham
Koee Dekhakar Mere Zakhmon Ko Tujhe Iljaam Na De
Isalie Unako Sabakee Najaron Se Chhupaate Hai Ham
Duniyaadaaree Nibhaane Ke Lie Padata Hai Hansana
Aansoo Andar Hee Andar Aajakal Pee Jaate Hai Ham
Bahut Kadee Dhoop Hai Hizr Ke Raaste Par Jaanaan
Jo Bhee Aashiq Gujarata Hai Vaha Se Ped Ban Jaate Hai Ham
Teree Khushee Ke Lie Tujhako Hee Chhod Diya
Ye Dukh Kya Kam Hai Jo Roj Uthaate Hai Ham
Hamane To Mohabbat Ke Siva Kuchh Seekha Nahee Yaha
Log Bade Chaalaak Hai Aur Bevakooph Ban Jaate Hai Ham
Din Raat Rote Hai Aur Tujhe Bulaate Hai Ham
Jara Aakar Dekh Tujhe Kitana Chaahate Hai Ham

Share With :