sad poetry in hindi

sad poetry in hindi on love | sad poetry in hindi | जिस तस्वीर को देखकर सुकून मिलता था

sad poetry in hindi on love

जिस तस्वीर को देखकर सुकून मिलता था

जो बेल मुझे ठंडक देती थी कभी आज वो ही मुझे झुलसा रही है
जिस तस्वीर को देखकर सुकून मिलता था वो ही तेरी याद मे तड़पा रही है
मैं वादे की पक्की आज भी गई थी तुझे स्टेशन पर लेने के लिए
पर आज भी ट्रेन तेरे बगैर स्टेशन से जा रही है
क्या तुझको मेरी याद नही आती कभी मेरे मेहबूब
तेरी महबूबा तो दिन रात तेरी याद में आँसू बहा रही है
तेरा घर जो किसी मक्के, मदीने से कम नहीं है मेरे लिए
मुझे तो आज भी उसकी खिड़की से तेरी सदाये आ रही है
जिस घर की छत से पहली बार देखा था तुमने मुझको
उसी घर की दीवारें हमारे मिलन के गीत गुनगुना रही है
पैसे की तलब दूर ले गई तुझे हम सब से
और यहा तेरे इन्तजार में तेरी मोहब्बत ना जी पा रही है ना मर पा रही है
जो बेल मुझे ठंडक देती थी कभी आज वो ही मुझे झुलसा रही है
जिस तस्वीर को देखकर सुकून मिलता था वो ही तेरी याद मे तड़पा रही है

sad poetry in hindi on love
sad poetry in hindi
sad poetry in hindi on love
sad poetry in hindi on love

Jo Bel Mujhe Thandak Detee Thee Kabhee Aaj Vo Hee Mujhe Jhulasa Rahee Hai
Jis Tasveer Ko Dekhakar Sukoon Milata Tha Vo Hee Teree Yaad Me Tadapa Rahee Hai
Main Vaade Kee Pakkee Aaj Bhee Gaee Thee Tujhe Steshan Par Lene Ke Lie
Par Aaj Bhee Tren Tere Bagair Steshan Se Ja Rahee Hai
Kya Tujhako Meree Yaad Nahee Aatee Kabhee Mere Mehaboob
Teree Mahabooba To Din Raat Teree Yaad Mein Aansoo Baha Rahee Hai
Tera Ghar Jo Kisee Makke, Madeene Se Kam Nahin Hai Mere Lie
Mujhe To Aaj Bhee Usakee Khidakee Se Teree Sadaaye Aa Rahee Hai
Jis Ghar Kee Chhat Se Pahalee Baar Dekha Tha Tumane Mujhako
Usee Ghar Kee Deevaaren Hamaare Milan Ke Geet Gunaguna Rahee Hai
Paise Kee Talab Door Le Gaee Tujhe Ham Sab Se
Aur Yaha Tere Intajaar Mein Teree Mohabbat Na Jee Pa Rahee Hai Na Mar Pa Rahee Hai
Jo Bel Mujhe Thandak Detee Thee Kabhee Aaj Vo Hee Mujhe Jhulasa Rahee Hai
Jis Tasveer Ko Dekhakar Sukoon Milata Tha Vo Hee Teree Yaad Me Tadapa Rahee Hai

Share With :