sad poetry in hindi

sad poetry in hindi on love | sad poetry in hindi | जिसने मेरे खातों को संभाल रक्खा है

sad poetry in hindi on love

जिसने मेरे खातों को संभाल रक्खा है

जिसने मेरे खातों को संभाल रक्खा है
क्या उसने मेरे आंसूओं का भी हिसाब रक्खा है
वापिस आने का वादा करके गया था मुझसे
उसने ये आज भी कल पर टाल रक्खा है
मैंने जिसे सुकून का जरिया समझा था कभी
उसी इश्क ने मुझे आफ़त मे डाल रक्खा है
इसलिए भी लगा रखा है ताला अपने दिल पर मैने
क्योंकि उसमे मैंने एक गम पाल रक्खा है
कोई रखता नही मेरा ख़्याल वैसे जानां
जैसे तुमने मेरा ख्याल रक्खा है
मुझे हो गई है मोहब्बत उन उन रास्तों से
जहां जहां तुमने अपना पैर रक्खा है
जिसने मेरे खातों को संभाल रक्खा है
क्या उसने मेरे आंसूओं का भी हिसाब रक्खा है

sad poetry in hindi on love
sad poetry in hindi
sad poetry in hindi on love
sad poetry in hindi on love

Jisane Mere Khaaton Ko Sambhaal Rakkha Hai
Kya Usane Mere Aansooon Ka Bhee Hisaab Rakkha Hai
Vaapis Aane Ka Vaada Karake Gaya Tha Mujhase
Usane Ye Aaj Bhee Kal Par Taal Rakkha Hai
Mainne Jise Sukoon Ka Jariya Samajha Tha Kabhee
Usee Ishk Ne Mujhe Aafat Me Daal Rakkha Hai
Isalie Bhee Laga Rakha Hai Taala Apane Dil Par Maine
Kyonki Usame Mainne Ek Gam Paal Rakkha Hai
Koee Rakhata Nahee Mera Khyaal Vaise Jaanaan
Jaise Tumane Mera Khyaal Rakkha Hai
Mujhe Ho Gaee Hai Mohabbat Un Un Raaston Se
Jahaan Jahaan Tumane Apana Pair Rakkha Hai
Jisane Mere Khaaton Ko Sambhaal Rakkha Hai
Kya Usane Mere Aansooon Ka Bhee Hisaab Rakkha Hai

Share With :