sad poetry in hindi

sad poetry in hindi on love | sad poetry in hindi | बस तुम मुझे प्यार जरा प्यार से करो

sad poetry in hindi on love

बस तुम मुझे प्यार जरा प्यार से करो

मुझसे वादे तुम हजार ना करो
दुनियां के ऐशों, आराम देने का इक़रार ना करो
मैं तो वो हूं जो तेरे एक सजदे के वासते अपनी जान वार दूं
बस तुम मुझे प्यार जरा प्यार से करो
नाराज होकर मुझसे तुम मेरी राते बेजार ना करो
बारी महफ़िल मे बेवफा कह कर मुझे बदनाम ना करो
तुम वही हो जिसके लिए मैंने छोड़ा सुख महलो का
बस तुम मुझे प्यार जरा प्यार से करो
तेरे आने से मेरे वीरान पड़े जीवन में बहार आई
तेरे छूने भर से मेरे बेजान पड़े जिस्म मे फिर से जान आई
तुम यूं मुझसे दूर जाने वाली बात ना करो
बस तुम मुझे प्यार जरा प्यार से करो

sad poetry in hindi on love
sad poetry in hindi
sad poetry in hindi on love
sad poetry in hindi on love

Mujhase Vaade Tum Hajaar Na Karo
Duniyaan Ke Aishon, Aaraam Dene Ka Iqaraar Na Karo
Main To Vo Hoon Jo Tere Ek Sajade Ke Vaasate Apanee Jaan Vaar Doon
Bas Tum Mujhe Pyaar Jara Pyaar Se Karo
Naaraaj Hokar Mujhase Tum Meree Raate Bejaar Na Karo
Baaree Mahafil Me Bevapha Kah Kar Mujhe Badanaam Na Karo
Tum Vahee Ho Jisake Lie Mainne Chhoda Sukh Mahalo Ka
Bas Tum Mujhe Pyaar Jara Pyaar Se Karo
Tere Aane Se Mere Veeraan Pade Jeevan Mein Bahaar Aaee
Tere Chhoone Bhar Se Mere Bejaan Pade Jism Me Phir Se Jaan Aaee
Tum Yoon Mujhase Door Jaane Vaalee Baat Na Karo
Bas Tum Mujhe Pyaar Jara Pyaar Se Karo

Share With :