sad poetry in hindi

sad poetry in hindi on love | sad poetry in hindi | मेरे मेहबूब अपनी बाहों का हार मेरे गले में डाल

sad poetry in hindi on love

मेरे मेहबूब अपनी बाहों का हार मेरे गले में डाल

मेरे ठंडे पड़े जिस्म में कुछ देर के लिए ही सही तू आग डाल
मेरे मेहबूब अपनी बाहों का हार मेरे गले में डाल
बहने दे तेरे सारे गम एक एक करके आंखों से मेरी
और मेरी मुस्कुराहट को तू आज अपने लबों पे डाल
डरता हूं अकेला, आजाद उड़ने से आसमान मे
तू एक काम कर, तू मुझे कैद कर और अपने दिल में डाल
तेरे खुशी से बढ़कर मुझे कुछ भी नही इस ज़हान में
तू जिस साँचा मे भी चाहता है मुझे उस साँचे मे डाल
मर ना जाऊं कहीं तेरी इन शोख, चंचल आदाओं से मैं
तू इस तरह अपनी आंखें मेरी आंखों मे ना डाल
मैं कुछ वक्त सुकून से सोना चाहता हूं तेरे पहलू मे
जांना तू आज अपना आंचल मेरे ऊपर डाल
मेरे ठंडे पड़े जिस्म में कुछ देर के लिए तू आग डाल
मेरे मेहबूब अपनी बाहों का हार मेरे गले में डाल

sad poetry in hindi on love
sad poetry in hindi
sad poetry in hindi on love
sad poetry in hindi on love

Mere Thande Pade Jism Mein Kuchh Der Ke Lie Hee Sahee Too Aag Daal
Mere Mehaboob Apanee Baahon Ka Haar Mere Gale Mein Daal
Bahane De Tere Saare Gam Ek Ek Karake Aankhon Se Meree
Aur Meree Muskuraahat Ko Too Aaj Apane Labon Pe Daal
Darata Hoon Akela, Aajaad Udane Se Aasamaan Me
Too Ek Kaam Kar, Too Mujhe Kaid Kar Aur Apane Dil Mein Daal
Tere Khushee Se Badhakar Mujhe Kuchh Bhee Nahee Is Zahaan Mein
Too Jis Saancha Me Bhee Chaahata Hai Mujhe Us Saanche Me Daal
Mar Na Jaoon Kaheen Teree In Shokh, Chanchal Aadaon Se Main
Too Is Tarah Apanee Aankhen Meree Aankhon Me Na Daal
Main Kuchh Vakt Sukoon Se Sona Chaahata Hoon Tere Pahaloo Me
Jaanna Too Aaj Apana Aanchal Mere Oopar Daal
Mere Thande Pade Jism Mein Kuchh Der Ke Lie Too Aag Daal
Mere Mehaboob Apanee Baahon Ka Haar Mere Gale Mein Daal

Share With :