sad poetry in hindi

sad poetry in hindi on love | sad poetry in hindi | वो मुझसे रिश्ता तोड़ कर चला गया

sad poetry in hindi on love

वो मुझसे रिश्ता तोड़ कर चला गया

वो मुझसे रिश्ता तोड़ कर चला गया
एक ख़त मेरे नाम का छोड़ कर चला गया
लिख दी उस एक पन्ने में उसने अपनी सारी मजबूरियां
और मेरी जिंदगी की किताब को कोरा छोड़ कर चला गया
मैं वो उझड़ा हुआ बाग हूं अब मेरे दोस्तों
परिंदा जिसका आशियाना छोड़ कर चला गया
कोई तो बड़ी वजह रही होगी उसकी जरूर
जो देख नही सकता था मुझको उदास आज वो मुझको रोता
छोड़ कर चला गया
ले गया वो अपनी सारी निशानियां अपने साथ
और मेरे माथे पर एक बोसा छोड़ कर चला गया
जो करता था वादे हमेशा साथ निभाने के दोस्तों
आज वो ही शख्स मुझको अकेला छोड़ कर चला गया
वो मुझसे रिश्ता तोड़ कर चला गया
एक ख़त मेरे नाम का छोड़ कर चला गया

sad poetry in hindi on love
sad poetry in hindi
sad poetry in hindi on love
sad poetry in hindi on love

Vo Mujhase Rishta Tod Kar Chala Gaya
Ek Khat Mere Naam Ka Chhod Kar Chala Gaya
Likh Dee Us Ek Panne Mein Usane Apanee Saaree Majabooriyaan
Aur Meree Jindagee Kee Kitaab Ko Kora Chhod Kar Chala Gaya
Main Vo Ujhada Hua Baag Hoon Ab Mere Doston
Parinda Jisaka Aashiyaana Chhod Kar Chala Gaya
Koee To Badee Vajah Rahee Hogee Usakee Jaroor
Jo Dekh Nahee Sakata Tha Mujhako Udaas Aaj Vo Mujhako Rota Chhod
Kar Chala Gaya
Le Gaya Vo Apanee Saaree Nishaaniyaan Apane Saath
Aur Mere Maathe Par Ek Bosa Chhod Kar Chala Gaya
Jo Karata Tha Vaade Hamesha Saath Nibhaane Ke Doston
Aaj Vo Hee Shakhs Mujhako Akela Chhod Kar Chala Gaya
Vo Mujhase Rishta Tod Kar Chala Gaya
Ek Khat Mere Naam Ka Chhod Kar Chala Gaya

Share With :