sad poetry in hindi

sad poetry in hindi on love | sad poetry in hindi | जज़बातों का समंदर है पर तुम हो बहुत दूर

sad poetry in hindi on love

जज़बातों का समंदर है पर तुम हो बहुत दूर

जज़बातों का समंदर है पर तुम हो बहुत दूर
क्या करे अब हम जब दिल हो चखना चूर
तेरी जुदाई ने इस तरह मार डाला है हमे
तुम क्या जानो तुमसे मिलने को कितने है मजबूर
वक़्त थमा ज़िंदगी थम गयी पर तुम ना आए
क्या करे ये दिल बेचारा तुम्हारे बिना हज़ूर
आ जाओ और आ के गले से लगा लो हमे
वक़्त का दरिया बह रहा है पर तुम हो इतने दूर
कहते है हर एक नदी समंदर मे मिल जाती है
लाख रूकावटें आती है फिर भी चलती जाती है
जग की तरफ जो देखोंगे तो कुछ ना कर पाओंगे
एक है चाहत एक है जीवन फिर भी क्यों शरमाती है

sad poetry in hindi on love

 

sad poetry in hindi
sad poetry in hindi on love
sad poetry in hindi on love

Jazabaaton Ka Samandar Hai Par Tum Ho Bahut Door
Kya Kare Ab Ham Jab Dil Ho Chakhana Choor
Teree Judaee Ne Is Tarah Maar Daala Hai Hame
Tum Kya Jaano Tumase Milane Ko Kitane Hai Majaboor
Vaqt Thama Zindagee Tham Gayee Par Tum Na Aae
Kya Kare Ye Dil Bechaara Tumhaare Bina Hazoor
Aa Jao Aur Aa Ke Gale Se Laga Lo Hame
Vaqt Ka Dariya Bah Raha Hai Par Tum Ho Itane Door
Kahate Hai Har Ek Nadee Samandar Me Mil Jaatee Hai
Laakh Rookaavaten Aatee Hai Phir Bhee Chalatee Jaatee Hai
Jag Kee Taraph Jo Dekhonge To Kuchh Na Kar Paonge
Ek Hai Chaahat Ek Hai Jeevan Phir Bhee Kyon Sharamaatee Hai

Share With :