sad poetry in hindi

sad poetry in hindi on love | sad poetry in hindi | मैं उसकी उसी आह में रह गया कहीं

sad poetry in hindi on love

मैं उसकी उसी आह में रह गया कहीं

मैं घर तो लौट आया पर ध्यान रह गया कहीं
मैं उसके दिल के खाली मकान में रह गया कहीं
जिसे अपना बनाना एक आखरी मकसद था मेरा
आज वो मेरी आस में रह गया कहीं
जहां तक नजर पड़ रही है घना जंगल फैला है
शायद कोई बीज दबा जंगल में रह गया कहीं
तड़प रहे थे परिंदे पिंजरे में पानी की एक बूंद के लिए
मैं उनकी प्यास में रह गया कहीं
जिस जगह वो मुझसे टकराया और टकराकर फिर मुस्कुराया
मैं उस जगह उस बाजार में रह गया कहीं
अलग होते वक्त वो गले लगकर बड़ा रोया
मैं उसकी उसी आह में रह गया कहीं
मैं घर तो लौट आया पर ध्यान रह गया कहीं
मैं उसके दिल के खाली मकान में रह गया कहीं

sad poetry in hindi on love
sad poetry in hindi
sad poetry in hindi on love
sad poetry in hindi on love

Main Ghar To Laut Aaya Par Dhyaan Rah Gaya Kaheen
Main Usake Dil Ke Khaalee Makaan Mein Rah Gaya Kaheen
Jise Apana Banaana Ek Aakharee Makasad Tha Mera
Aaj Vo Meree Aas Mein Rah Gaya Kaheen
Jahaan Tak Najar Pad Rahee Hai Ghana Jangal Phaila Hai
Shaayad Koee Daba Beej Jangal Mein Rah Gaya Kaheen
Tadap Rahe The Parinde Pinjare Mein Paanee Kee Ek Boond Ke Lie
Main Unakee Pyaas Mein Rah Gaya Kaheen
Jis Jagah Vo Mujhase Takaraaya Aur Takaraakar Phir Muskuraaya
Main Us Jagah Us Baajaar Mein Rah Gaya Kaheen
Alag Hote Vakt Vo Gale Lagakar Bada Roya
Main Usakee Usee Aah Mein Rah Gaya Kaheen
Main Ghar To Laut Aaya Par Dhyaan Rah Gaya Kaheen
Main Usake Dil Ke Khaalee Makaan Mein Rah Gaya Kaheen

Share With :