sad poetry in hindi

sad poetry in hindi on love | sad poetry in hindi | मेरा गुनाह बस इतना था

sad poetry in hindi on love

मेरा गुनाह बस इतना था

मेरा गुनाह बस इतना था
की मैंने उस शख़्स से इश्क़ कर लिया था
जो होने जा रहा था कुछ दिनों में किसी और का
उसे पहले ही सब कुछ अपना मान लिया था
लिखी थी कई गज़ले उसके लिए
गजलों में कई बार उसका नाम भी लिया था
छोड़ दिया था अपना घर उसके लिए
उसे अपना मुस्तक़बिल जान लिया था
लिया था उसके घर का पता दोस्त से उसके
उसके घर के पास एक घर खरीद लिया था
किसी और का होते हुए उसे देख रहा था मैं जब
उसी वक्त मैंने अपना आखरी सांस लिया था
मेरा गुनाह बस इतना था
की मैंने उस शख़्स से इश्क़ कर लिया था

sad poetry in hindi on love
hindi shayari new
images of sad shayari in hindi
sad poetry in hindi on love

Mera Gunaah Bas Itana Tha
Kee Mainne Us Shakhs Se Ishq Kar Liya Tha
Jo Hone Ja Raha Tha Kuchh Dinon Mein Kisee Aur Ka
Use Pahale Hee Sab Kuchh Apana Maan Liya Tha
Likhee Thee Kaee Gazale Usake Lie
Gajalon Mein Kaee Baar Usaka Naam Bhee Liya Tha
Chhod Diya Tha Apana Ghar Usake Lie
Use Apana Mustaqabil Jaan Liya Tha
Liya Tha Usake Ghar Ka Pata Dost Se Usake
Usake Ghar Ke Paas Ek Ghar Khareed Liya Tha
Kisee Aur Ka Hote Hue Use Dekh Raha Tha Main Jab
Usee Vakt Mainne Apana Aakharee Saans Liya Tha
Mera Gunaah Bas Itana Tha
Kee Mainne Us Shakhs Se Ishq Kar Liya Tha

Share With :